इतिहासकार बिपिन चंद्र का निधन

adhunik bharat ka itihas by bipan chandraदेश के जाने माने इतिहासकार प्रोफेसर बिपिन चंद्र का शनिवार सुबह गुड़गांव में उनके घर पर निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे।
बिपिन चंद्र ने ‘आधुनिक भारत का इतिहास‘ और ‘भारत का स्वाधीनता संघर्ष‘ जैसी कई किताबें लिखीं।  वर्ष 1928 में हिमाचल प्रदेश के कांगडा में जन्मे बिपिन चंद्र ने फार्मन क्रिश्चियन कॉलेज लाहौर, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी अमेरिका और दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा ग्रहण की थी ।  वह कई साल तक दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज में लेक्चरर और फिर रीडर रहे| इसके बाद उन्होंने जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय दिल्ली में प्रोफेसर के रूप में पढ़ाना शुरु किया. 1993 में वह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के सदस्य बने । साल 2004 से 2012 तक नेशनल बुक ट्रस्ट दिल्ली के अध्यक्ष रहे बिपिन चंद्र को आधुनिक भारत के आर्थिक एवं राजनीतिक इतिहास में विशेषज्ञता हासिल थी | उन्होंने इतिहास पर करीब 20 पुस्तकें लिखी हैं | भारत के कम्युनिस्ट आंदोलन में अग्रणी रहे बिपिन चंद्र ने ‘इंडिया आफ्टर इंडिपेंडेंस’ और ‘इंडियाज स्ट्रगल फॉर इंडिपेंडेंस’ जैसी कई मशहूर किताबें लिखीं ।

Filed in: Year 2014, अगस्त महीना, इतिहास, प्रसिद्ध व्यक्ति, भारत, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , , ,

You might like:

रामनाथ कोविंद बने भारत के 14 वें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बने भारत के 14 वें राष्ट्रपति
टीआर जेलियांग बने नागालैंड के नए मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग बने नागालैंड के नए मुख्यमंत्री
वेंकैया नायडू बने उपराष्ट्रपति प्रत्याशी वेंकैया नायडू बने उपराष्ट्रपति प्रत्याशी
महान गणितज्ञ मरियम मिर्जाखानी 40 वर्ष की उम्र में निधन महान गणितज्ञ मरियम मिर्जाखानी 40 वर्ष की उम्र में निधन
© 2017 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.