ऑस्ट्रेलियाई उपन्यासकार रिचर्ड फ्लांगान को बुकर पुरस्कार 2014

the narrow road to the deep north man bookerऑस्ट्रेलियाई उपन्यासकार रिचर्ड फ्लांगान को मिला बुकर पुरस्कार 2014 | भारत में जन्मे ब्रिटिश लेखक नील मुखर्जी वर्ष 2014 के बुकर पुरस्कार की दौड़ में ऑस्ट्रेलियाई उपन्यासकार रिचर्ड फ्लांगान से हार गए हैं। फ्लांगान को उनके उपन्यास ‘द नैरो रोड टू द डीप नॉर्थ’ के लिए बुकर पुरस्कार प्रदान किया गया, जो बर्मा रेलवे में युद्धबंदियों की कहानी पर आधारित है। तस्मानिया में पैदा हुए फ्लांगान का यह छठा उपन्यास है, जिसकी कथा वस्तु द्वितीय विश्वयुद्ध में थाइलैंड- बर्मा डेथ रेलवे के निर्माण के दौरान के कालखंड के घटनाक्रमों को समेटे हुए है। जिस दिन फ्लांगान ने अपने इस उपन्यास की अंतिम पंक्ति को पूरा किया, उसी दिन उनके 98-वर्षीय पिता ने दुनिया को अलविदा कह दिया, जो खुद रेलवे की त्रासदी से जिंदा बचे लोगों में शामिल थे। इस रेलवे का निर्माण 1943 में युद्धबंदियों और बंधुआ मजदूरों ने किया था।
नायकवाद के अर्थ पर सवाल उठाती यह किताब उन वजूहात को तलाशती है, जो किसी को भी नृशंसता की चरम सीमाओं को पार करने वाली गतिविधियों को अंजाम देने के लिए प्रेरित करती है। यह सवाल उठाती है कि क्यों कोई इंसान हैवानियत की सारी सीमाओं के परे चला जाता है। इसमें यह भी बताया गया है कि ऐसी नृशंसता के शिकार न केवल पीड़ित, बल्कि उन्हें अंजाम देने वाले भी होते हैं।  फ्लांगान ने हालांकि कहा कि उन्हें बुकर पुरस्कार जीतने की उम्मीद नहीं थी। पुरस्कार चयन समिति के अध्यक्ष एसी ग्रेलिंग ने फ्लांगान के उपन्यास को ‘एक शानदार प्रेम कथा और साथ ही मानवीय पीड़ा और साहस की अद्भुत गाथा’ बताया। चयन समिति के जजों ने कहा कि यह किताब इस युद्ध में फंसे सभी लोगों के संबंध में बताती है कि उन्हें इसकी कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी।

Filed in: Year 2014, अक्टूबर 2014, कला एवं संस्कृति, प्रसिद्ध व्यक्ति, भारत, सम-सामयिकी, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , ,

You might like:

नोबेल पुरस्कार विजेता 2019 सूची नोबेल पुरस्कार विजेता 2019 सूची
इथियोपिया के प्रधानमंत्री को नोबेल शांति पुरस्कार 2019 इथियोपिया के प्रधानमंत्री को नोबेल शांति पुरस्कार 2019
PM मोदी मिले चीनी राष्ट्रपति से महाबलीपुरम में PM मोदी मिले चीनी राष्ट्रपति से महाबलीपुरम में
रसायनशास्त्र नोबेल पुरस्कार 2019 विजेता रसायनशास्त्र नोबेल पुरस्कार 2019 विजेता
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.