केंद्र सरकार राजस्थान के अंतर्देशीय शिपिंग बंदरगाह के विकास में सहायता देगी

शिपिंग मंत्रालय के अधीनस्थ भारतीय अंतर्देशीय जलामार्ग प्राधिकरण ने जालौर में एक अंतर्देशीय शिपिंग बंदरगाह के निर्माण के लिए राजस्थान सरकार का मार्गदर्शन एवं सहायता करने का प्रस्ताव रखा है। यहां विकसित किए जाने वाले बंदरगाह एवं टर्मिनल से पश्चिमी राजस्थान में अंतर्देशीय नौवहन सुविधाओं के विकास में मदद मिलेगी। यही नहीं, इससे इस क्षेत्र का सामाजिक-आर्थिक विकास भी संभव हो पाएगा। राज्य सरकार नहर के आसपास चूना पत्थर, जिप्सम, लिग्नाइट और सीमेंट फैक्ट्रियों के लिए व्यावसायिक विकास अवसरों की तलाश करेगी। इस परियोजना की संभाव्यता-पूर्व रिपोर्ट को तैयार करने का काम वैप्कॉस द्वारा किया जाएगा। इसकी ओर से रिपोर्ट पांच माह के भीतर पेश कर दी जाएगी। इस दौरान भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण इस पर पूरी तरह से नजर रखेगा और इसके साथ ही वह इसके लिए मार्गदर्शन भी करेगा।
मोरी खाड़ी और जालौर के बीच एक नहर बनाने का प्रस्ताव है। इस नहर को तीन मीटर की न्यूनतम तलछट को बरकरार रखना होगा। यहां स्थित जल को लवण मुक्त करने और सिंचाई के लिए इसका उपयोग करने के प्रयास किए जाएंगे। इससे सूखा प्रतिरोधी फसलों के विकास और इस क्षेत्र में कृषि पैटर्न को बेहतर करने में मदद मिलेगी। नहर के आसपास कृषि से जुड़ी विविधता में बेहतरी सुनिश्चित करने के लिए लवण प्रतिरोधी फसलों जैसे सोया की लाभप्रदता का भी अध्ययन किया जाएगा। इसके अलावा इस खण्ड में स्मार्ट सिटीज का विकास करने की भी योजना है। इसी तरह इंदिरा गांधी नहर को जहाजों के चलने योग्य बनाने के उद्देश्य से भी अध्ययन कराया जाएगा।

Filed in: Year 2015, नवंबर 2015, भारत, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान Tags: , , ,

You might like:

इथियोपिया के प्रधानमंत्री को नोबेल शांति पुरस्कार 2019 इथियोपिया के प्रधानमंत्री को नोबेल शांति पुरस्कार 2019
अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2019 अमिताभ बच्चन को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार 2019
प्रधानमंत्री पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में भाग लिया प्रधानमंत्री पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में भाग लिया
15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा 15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.