जनमत संग्रह : ब्रिटेन साथ ही रहेगा स्कॉटलैड

Scotland_Englandस्कॉटलैड वासियों ने ब्रिटेन के साथ अपना 307 साल पुराना रिश्ता बरकरार रखने का आज ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए आजादी की मुहिम को धराशायी करने के साथ ही ब्रिटेन की अखंडता को लेकर चिंतित लोगों और प्रधानमंत्री डेविड कैमरन को बड़ी राहत पहुंचाई। ब्रिटेन के साथ रहने या उससे अलग एक आजाद मुल्क के रूप में अस्तित्व में आने को लेकर गुरुवार को स्कॉटलैंड में कराए गए जनमत संग्रह (Scotland Referendum) के नतीजे ब्रिटेन के साथ रहने के हक में गए। इसके पक्ष में 55 वोट पड़े, जबकि विपक्ष में 45 प्रतिशत वोड पड़े। हालांकि मतो के प्रतिशत के हिसाब से आजादी के समर्थकों और विरोधियों के बीच का अतंर कोई बहुत ज्यादा नहीं रहा। प्रधानमंत्री कैमरन ने नतीजों पर खुशी जाहिर करते हुए स्कॉटलैंड वासियों और ब्रिटेन की एकता बनाए रखने के लिए जीजान से कोशिश करने वाले नेताओं को धन्यवाद दिया।
ब्रिटेन के उप प्रधानमंत्री निक कलेग ने नतीजों को बेहद उत्साहजनक बताया। दूसरी ओर आजादी का अभियान चलाने वाले स्कॉटिश नेशनलिस्ट पार्टी के नेता एलेकस सालमंड ने जनमत संग्रह में मिली पराजय को शालीनता के साथ स्वीकार करते हुए कहा कि स्कॉटलैंड की जनता ने ब्रिटेन के साथ रहने का फैसला सुनाया है। जनमत संग्रह के परिणाम आते ही स्कॉटलैंड के कई शहरों में ब्रिटेन का समर्थन करने वाले लोग जश्न मनाते हुए सड़कों पर उतर आए।

Filed in: Year 2014, विश्व, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, सितम्बर महीना Tags: , , ,

You might like:

सामान्य ज्ञान Quiz No. 233 सामान्य ज्ञान Quiz No. 233
इंडिया पोस्ट बना सबसे अधिक घाटे वाला सरकारी संस्थान इंडिया पोस्ट बना सबसे अधिक घाटे वाला सरकारी संस्थान
शिवा रेड्डी को सरस्वती सम्मान 2018 शिवा रेड्डी को सरस्वती सम्मान 2018
इजरायल के 5वीं बार प्रधानमंत्री बने बेंजामिन नेतन्याहू इजरायल के 5वीं बार प्रधानमंत्री बने बेंजामिन नेतन्याहू
© 6386 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.