नीति आयोग लेगा योजना आयोग की जगह

niti aayogयोजना आयोग की जगह अब नीति आयोग काम करेगा।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाले नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल में सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्र शासित प्रदेशों के उपराज्यपाल बतौर सदस्य शामिल होंगे। योजना आयोग की स्थापना 1950 में की गई थी. योजना आयोग देश के विकास से संबंधित योजनाएं बनाने का काम करता था. आयोग अब तक 12 पंचवर्षीय योजनाएं बना चुका है. आयोग ने 2000 करोड़ रुपए से पहली पंचवर्षीय योजना 1951 में शुरू की थी. इसके अध्यक्ष प्रधानमंत्री होते थे. इसके उपाध्यक्ष की नियुक्ति सरकार करती थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल 15 अगस्त को लालकिले से दिए गए अपने भाषण में योजना आयोग को अप्रासंगिक बताते हुए उसकी जगह नई संस्था बनाने की घोषणा की थी |

नीति आयोग की विशेषताएं
– इसकी मुख्य भूमिका राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के विभिन्न नीतिगत मुद्दों पर केंद्र और राज्य सरकारों को जरूरी रणनीतिक व तकनीकी परामर्श देना होगी।
– नए आयोग के उद्देश्यों में यह स्पष्ट नहीं कि पंचवर्षीय योजनाओं की मौजूदा व्यवस्था रहेगी या नहीं।
– नीति आयोग के बाद राष्ट्रीय विकास परिषद (एनडीसी) की भूमिका क्या होगी।
– नीति आयोग के क्रियाकलापों में मुख्यमंत्रियों तथा निजी क्षेत्र के विशेषज्ञों की अहम भूमिका होगी।
– नीति आयोग मोदी के “टीम इंडिया” और “सहकारी संघवाद” के विचार का मूर्तरूप होगा।
– नीति आयोग में देश भर के शोध संस्थानों और विश्वविद्यालयों से व्यापक स्तर पर परामर्श लिये जायेंगे।
– नीति आयोग में विश्वविद्यालयों और शोध संस्थानों के प्रतिनिधि‍ भी शामिल किये जायेंगे।

Filed in: Year 2015, जनवरी 2015, प्रमुख योजनाएँ, भारत, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , ,

You might like:

जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म
रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार
जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष
15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा 15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.