प्रधानमंत्री जन धन योजना

प्रधानमंत्री जन धन योजनाप्रधानमंत्री जन धन योजना 2014:  प्रधानमंत्री जन धन योजना 2014:  भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले की प्राचीर से प्रधानमंत्री जन धन योजना, 2014 की घोषणा की थी एवं 28 अगस्त 2014 को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने विज्ञानं भवन, नई दिल्ली से विधीवत शुरुआत की गई।  प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत गरीबों के बैंक खाते खुलेंगे एवं रुपे (RuPay) डेबिट कार्ड दिया जाएगा। एक लाख रुपए का बीमा होगा | सरकार देश के प्रत्येक परिवार को बैंकिंग सेवाओं के दायरे में लाना चाहती है। सरकार का मानना है कि बैंकिंग सेवाओं से जुड़ने पर लोगों में बचत की भावना बढेगी और वे अधिक बचत कर राष्ट्र निर्माण में भागीदार होंगे। उन्होंने कहा कि अभी मात्र 58 प्रतिशत आबादी के पास ही बैंक खाते हैं। पूरे देश में बैंकिंग सेवाओं की पहुंच होने पर बचत में वृद्धि होगी और विकास के लिए अधिक धनराशि मिल पायेगी। इसके तहत खुलने वाले खातों पर बैंकिंग सुविधाों के साथ ही माइक्रो बीमा ओवरड्राफट सुविधा के साथ बेसिक बैंकिंग खाते और एक लाख रूपये के दुर्घटना बीमा कवर के साथ ही रूपये डेबिट कार्ड दिया जायेगा।  प्रधानमंत्री जन धन योजना को सफल बनाने के लिए सरकार ने इसके तहत दिया जाने वाला बीमा कवर बढ़ाकर दो लाख रुपए करने का फैसला किया है. बशर्ते बैंक खाता योजना शुरू होने के पहले 100 दिन में खुलवाया जाता है. प्रधानमंत्री ने सभी बैंक अधिकारियों को तकरीबन 7.25 लाख ई-मेल भेजे थे. यह योजना वित्तीय समावेश पर एक राष्ट्रीय मिशन है, जिसका उद्देश्य देश में सभी परिवारों को बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराना और हर परिवार का एक बैंक खाता खोलना है.
प्रधानमंत्री जन धन योजना योजना की मुख्य बातें
Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana
– हर परिवार में कम से कम दो खाते खुलवाएं जाने की योजना है। यानी कुल 15 करोड़ खाते खोले जाने हैं।
– इस योजना के तहत खाता खुलवाने पर व्यक्ति को 1 लाख रूपए की दुर्घटना बीमा मिलेगी।
– खाता खुलवाने के साथ ही ग्राहक को “रूपे” डेबिट कार्ड की भी सुविधा दी जाएगी।
– इस योजना के तहत आधार कार्ड से खुले खातों में 6 महीने बाद ग्राहक आवदेन देने पर जमा राशि से 5000 रूपए की अधिक राशि निकाल सकेगा।
– इस योजना का पहला चरण अगस्त 2014 में खत्म होगा।
– इस योजना का दूसरा चरण 2015 से 2018 तक चलेगा। उसमें पेंशन योजना “स्वालंबन” की भी सुविधा दी जाएगी।
– इसके पहले चरण में बैंक सात हजार से अधिक शाखाएं खोलेंगे और 20 हजार से अधिक एटीएम लगाएंगे।
– योजना के शुभारंभ के दिन खाता खोलने के लिए ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में 60 हजार से अधिक कैंप लगाए जाएंगे।
– इस योजना को लागू करने से 50 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा।
– इस खाते को खुलवाने के लिए आधार कार्ड या उसका नंबर, मनरेगा जॉब कार्ड, वेाटर आईडी कार्ड, राशन, ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली या टेलफोन बिल, जन्म या विवाह प्रमाण पत्र, सरपंच का लिखा पहचान पत्र और किसी मान्यता प्राप्त संस्था का पहचान पत्र जरूरी है।
– सरकार खाता खुलवाने के बाद लक्षित लोगों को ही सब्सिडी देने पर विचार कर सके गी। इससे आम आदमी को आर्थिक सुरक्षा भी मिलेगी और वह बचत भी करेगा, जिससे सरकार को फायदा मिलेगा।
– यह मिशन दो चरणों में लागू होगा.
पहला चरण 15 अगस्त 2014 से 14 अगस्त 2015 तक होगा.पूरे देश में सभी परिवारों को उचित दूरी के अंदर किसी बैंक की शाखा या निर्धारित प्वाइंट ‘बिजनेस कॉरसपोंडेंट’ के माध्यम से बैंकिंग सुविधाओं की वैश्विक पहुंच उपलब्ध कराना.
रुपे डेबिट कार्ड के साथ कम से कम एक मूल बैंकिंग खाता उपलब्ध कराना.
सभी परिवारों को एक लाख रुपये का दुर्घटना बीमा कवर.
– दूसरा चरण 15 अगस्त 2015 से 14 अगस्त 2018 तक होगा.
लोगों को माइक्रो-बीमा उपलब्ध कराना.

Filed in: Year 2014, अगस्त महीना, प्रमुख योजनाएँ, भारत, सम-सामयिकी, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , ,

You might like:

जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म
रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार
जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष
15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा 15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ा
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.