रहीम के दोहे भाग 2

रहीम के दोहे खंड संख्या 2: रहीम मध्यकालीन सामंतवादी संस्कृति के कवि थे। इनके बारे में विस्तृत से पढ़ें रहीम के दोहे  रहीम का व्यक्तित्व बहुमुखी प्रतिभा-संपन्न था।  रहीमदास जी के दोहे जीवन आज भी सार्थक हैं एवं हमारे दैनिक जीवन में लाभकारी हैं । इसी कड़ी रहीमदास जी के प्रमुख दोहे एवं उनका अर्थ निम्नलिखित हैं । इसी प्रकार रहीम के प्रमुख दोहे उनके शब्दार्थ सहित निम्न तीन खंडो में प्रकाशित है । इस कड़ी में भाग 2 के दोहे निम्नलिखित हैं ।

रहीम के दोहे खंड संख्या 2 : 

11. जो बड़ेन को लघु कहें, नहीं रहीम घटी जाहिं.
गिरधर मुरलीधर कहें, कछु दुःख मानत नाहिं.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं कि बड़े को छोटा कहने से बड़े का बड़प्पन नहीं घटता, क्योंकि गिरिधर (कृष्ण) को मुरलीधर कहने से उनकी महिमा में कमी नहीं होती.

12. एकहि साधै सब सधै, सब साधे सब जाय।
रहिमन मूलहि सींचबो, फूलहि फलहि अघाय॥
अर्थ: एक को साधने से सब सधते हैं। सब को साधने से सभी के जाने की आशंका रहती है। वैसे ही जैसे किसी पौधे के जड़ मात्र को सींचने से फूल और फल सभी को पानी प्राप्त हो जाता है और उन्हें अलग-अलग सींचने की जरूरत नहीं होती है।

13. खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौंन लगाय.
रहिमन करुए मुखन को, चाहिए यही सजाय.
दोहे का अर्थ: खीरे का कडुवापन दूर करने के लिए उसके ऊपरी सिरे को काटने के बाद नमक लगा कर घिसा जाता है. रहीम कहते हैं कि कड़ुवे मुंह वाले के लिए – कटु वचन बोलने वाले के लिए यही सजा ठीक है.

14. दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं.
जान परत हैं काक पिक, रितु बसंत के माहिं.
दोहे का अर्थ: कौआ और कोयल रंग में एक समान होते हैं। जब तक ये बोलते नहीं तब तक इनकी पहचान नहीं हो पाती।लेकिन जब वसंत ऋतु आती है तो कोयल की मधुर आवाज़ से दोनों का अंतर स्पष्ट हो जाता है.

15. रहिमन अंसुवा नयन ढरि, जिय दुःख प्रगट करेइ,
जाहि निकारौ गेह ते, कस न भेद कहि देइ.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं की आंसू नयनों से बहकर मन का दुःख प्रकट कर देते हैं। सत्य ही है कि जिसे घर से निकाला जाएगा वह घर का भेद दूसरों से कह ही देगा.

16. रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोय.
सुनी इठलैहैं लोग सब, बांटी न लेंहैं कोय.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं की अपने मन के दुःख को मन के भीतर छिपा कर ही रखना चाहिए। दूसरे का दुःख सुनकर लोग इठला भले ही लें, उसे बाँट कर कम करने वाला कोई नहीं होता.

17. पावस देखि रहीम मन, कोइल साधे मौन.
अब दादुर वक्ता भए, हमको पूछे कौन.
दोहे का अर्थ: वर्षा ऋतु को देखकर कोयल और रहीम के मन ने मौन साध लिया है. अब तो मेंढक ही बोलने वाले हैं। हमारी तो कोई बात ही नहीं पूछता. अभिप्राय यह है कि कुछ अवसर ऐसे आते हैं जब गुणवान को चुप रह जाना पड़ता है. उनका कोई आदर नहीं करता और गुणहीन वाचाल व्यक्तियों का ही बोलबाला हो जाता है.

18. रहिमन विपदा हू भली, जो थोरे दिन होय.
हित अनहित या जगत में, जान परत सब कोय.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं कि यदि विपत्ति कुछ समय की हो तो वह भी ठीक ही है, क्योंकि विपत्ति में ही सबके विषय में जाना जा सकता है कि संसार में कौन हमारा हितैषी है और कौन नहीं।

19. वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग.
बांटन वारे को लगे, ज्यों मेंहदी को रंग.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं कि वे लोग धन्य हैं जिनका शरीर सदा सबका उपकार करता है. जिस प्रकार मेंहदी बांटने वाले के अंग पर भी मेंहदी का रंग लग जाता है, उसी प्रकार परोपकारी का शरीर भी सुशोभित रहता है.

20. समय पाय फल होत है, समय पाय झरी जात.
सदा रहे नहिं एक सी, का रहीम पछितात.
दोहे का अर्थ: रहीम कहते हैं कि उपयुक्त समय आने पर वृक्ष में फल लगता है। झड़ने का समय आने पर वह झड़ जाता है. सदा किसी की अवस्था एक जैसी नहीं रहती, इसलिए दुःख के समय पछताना व्यर्थ है.

 

Filed in: इतिहास, कला एवं संस्कृति, कवितायेँ, धर्म एवं संस्कृति, प्रसिद्ध व्यक्ति, मुस्लिम धर्म, लेखक एवं कवि, सामान्य ज्ञान लेख, हिंदी भाषा, हिंदी भाषा ज्ञान, हिन्दू धर्म Tags: , , , , ,

You might like:

अमित शाह ने गृह मंत्री का पदभार संभाला अमित शाह ने गृह मंत्री का पदभार संभाला
राजनाथ सिंह ने रक्षा मंत्री का पदभार ग्रहण किया राजनाथ सिंह ने रक्षा मंत्री का पदभार ग्रहण किया
शिवा रेड्डी को सरस्वती सम्मान 2018 शिवा रेड्डी को सरस्वती सम्मान 2018
इजरायल के 5वीं बार प्रधानमंत्री बने बेंजामिन नेतन्याहू इजरायल के 5वीं बार प्रधानमंत्री बने बेंजामिन नेतन्याहू
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.