शनि देव

Shani_dev_and_historyशनि-देव को सूर्य पुत्र माना जाता है.लेकिन साथ ही पितृ शत्रु भी. शनि ग्रह के सम्बन्ध मे अनेक भ्रान्तियां और इस लिये उसे मारक,अशुभ और दुख कारक माना जाता है.पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं.लेकिन शनि उतना अशुभ और मारक नही है,जितना उसे माना जाता है.इसलिये वह शत्रु नही मित्र है.मोक्ष को देने वाला एक मात्र शनि ग्रह ही है.सत्य तो यह ही है कि शनि प्रकृति में संतुलन पैदा करता है,और हर प्राणी के साथ न्याय करता है.जो लोग अनुचित विषमता और अस्वाभाविक समता को आश्रय देते हैं,शनि केवल उन्ही को प्रताडित करता है।”वैदूर्य कांति रमल:,प्रजानां वाणातसी कुसुम वर्ण विभश्च शरत:।
अन्यापि वर्ण भुव गच्छति तत्सवर्णाभि सूर्यात्मज: अव्यतीति मुनि प्रवाद:“॥

भावार्थ:-शनि ग्रह वैदूर्यरत्न अथवा बाणफ़ूल या अलसी के फ़ूल जैसे निर्मल रंग से जब प्रकाशित होता है,तो उस समय प्रजा के लिये शुभ फ़ल देता है यह अन्य वर्णों को प्रकाश देता है,तो उच्च वर्णों को समाप्त करता है,ऐसा ऋषि महात्मा कहते हैं।

प्रश्न.  शनिदेव कि सवारी है ?
A. गुरुड़
B. कौवा
C.चूहा
D. भैंसा
उत्तर: B
Filed in: इतिहास, जनवरी महीना, धर्म एवं संस्कृति, परीक्षा प्रश्न, फरवरी महीना, फ़ोटो से जाने, सम-सामयिकी, सामान्य ज्ञान प्रश्न, सामान्य ज्ञान लेख, हिन्दू धर्म Tags: 

You might like:

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity) स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity)
ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2018 में भारत 103 वें स्थान पर पहुँचा ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2018 में भारत 103 वें स्थान पर पहुँचा
DMK प्रमुख एम करुणानिधि का निधन DMK प्रमुख एम करुणानिधि का निधन
BSNL ने देश की पहली इंटरनेट टेलीफोनी सेवा ‘WINGS’ शुरू की BSNL ने देश की पहली इंटरनेट टेलीफोनी सेवा ‘WINGS’ शुरू की
© 2018 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.