फास्ट टैग 1 दिसंबर 2017 से सभी नए वाहनों में अनिवार्य

FASTag Indiaकेन्द्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय द्वारा 1 दिसंबर 2017 से ब्रिकी होने वाले वाहनों की विंडस्क्रीन पर फास्ट टैग लगाना अनिवार्य कर दिया गया है। इससे हाइवे में वाहनों की रफ्तार में 30 फीसदी का इजाफा हो जाएगा। सरकार का लक्ष्य 2019 तक 80 फीसदी वाहनों को फास्ट टैग युक्त करने का है।सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स 1989 में सुधारों के तहत सरकार ने 2 नवंबर को यह नोटिफिकेशन जारी किया है जिसमें सेंट्रल मोटर व्हीकल्स के रूल 138ए का हवाला देते हुए कहा है कि हर नए बिकने वाले चार पहिया व्हीकल पर फास्ट टैग लगाकर बेचना अनिवार्य होगा.
फास्ट टैग क्या है?
इस स्कीम के तहत स्क्रीन पर टैग के आधार पर ही बैरियर खुल जाएगा। बेरियर मात्र टैग लगने के आधार पर ही खुल जाएगा। योजना शुरू होने के बाद वाहनों को लाइन में नहीं लगना होगा ना ही रसीद कटाने की जरूरत नहीं रह जाएगी। इस सुविधा के तहत उपभोक्ता को एक मुश्त भुगतान देना होगा और उसकी रसीद कार के शीशे पर चिपकानी होगी। टोल नाकों से गुजरने पर अपने-आप ही टोल की कटौती हो जाएगी। फास्टेग सुविधा के लिए टोल नाकों पर अलग से लेन भी बनाई गयी है।

Filed in: Year 2017, नवंबर 2017, प्रमुख योजनाएँ, भारत, व्यापार, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , , , , ,

You might like:

मनु भाकर ने ISSF विश्व कप में स्वर्ण जीता मनु भाकर ने ISSF विश्व कप में स्वर्ण जीता
महिंदा राजपक्षे होंगे श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे होंगे श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री
अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी सहित 3 लोगों को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी सहित 3 लोगों को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार
चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2019, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार 2019, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.