ISRO ने GLSV Mark III D2 के जरिए संचार उपग्रह GSAT-29 का सफल प्रक्षेपण किया

GSAT 29भारत की अंतरिक्ष के क्षेत्र में सफलताओं की फेहरिस्त में बुधवार को एक और पन्ना जुड़ गया। इसरो ने अपने सबसे भारी रॉकेट GLSV Mark III D2 के जरिए संचार उपग्रह GSAT -29 का सफल प्रक्षेपण किया। इससे भारत के डिजिटल इंडिया अभियान को और मज़बूती मिलेगी। पीएम मोदी ने ट्वीट कर इसरो को बधाई दी. भारत ने अंतरिक्ष में एक नया सफल कदम बढ़ा दिया है, बुधवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान, इसरो ने अपने सबसे भारी रॉकेट जीएसएलवी मार्क3-डी2 के जरिए संचार उपग्रह जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण किया।
तीन हज़ार 423 किलोग्राम के इस उपग्रह में केयू और केए बैंड के संचार ट्रांसपोंडर्स लगे हैं जो देश के दूर-दराज के इलाकों खासकर जम्मू-कश्मीर और उत्तर-पूर्व में संचार सेवाओं को और बेहतर बनाएंगे। पीएम मोदी ने ट्वीट कर इसरो को बधाई दी और लिखा, “जीएसएलवी मार्क3-डी2 रॉकेट से उपग्रह जीसैट-29 के प्रक्षेपण पर वैज्ञानिकों को बधाई, भारतीय रॉकेट से सबसे भारी उपग्रह को अंतरिक्ष में स्थापित करने की दोहरी सफलता एक नया रिकॉर्ड है.”।

Filed in: नवंबर 2018, फ़ोटो से जाने, भारत, विज्ञान एवं तकनीकी, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख, हमारा भारत Tags: , , , , , ,

You might like:

जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म
रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार
चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई 2019 को – ISRO चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई 2019 को – ISRO
जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.