प्रत्यूष – भारत का सबसे तेज सुपर कम्प्यूटर

Pratyush Super Computer India's fastestकेन्‍द्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 8 जनवरी 2018 को पुणे में भारत का सबसे तेज और पहला मल्‍टीपेटाफ्लोप्‍स सुपर कम्‍प्‍यूटर देश को समर्पित किया। इस सुपर कम्‍प्‍यूटर को सूर्य के नाम पर प्रत्‍यूष नाम दिया गया है। इसे भारतीय मौसम विज्ञान संस्‍थान पुणे में लगाया गया है जिससे पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय से सटीक मौसम और जलवायु पूर्वानुमान में और सुधार होगा। इस सुपरकम्प्यूटर का इस्तेमाल देश में मानसून की अधिक बेहतर भविष्यवाणी के अलावा तमाम प्राकृतिक आपदाओं जैसे सुनामी, चक्रवाती तूफान, भूकंप, आदि की अधिक कार्यकुशल निगरानी के लिए किया जायेगा। इसके अलावा वायु की गुणवत्ता, बिजली गिरने, मत्स्य उद्योग, गर्म व ठण्डी तरंगों के अवलोकन तथा बाढ़ व सूखे की तैयारियों में इसका इस्तेमाल किया जायेगा।
प्रत्यूष” दरअसल तमाम कम्प्यूटर की एक संयुक्त कड़ी है जो अधिकतम 6.8 पेटाफ्लॉप्स (6.8 petaflops) तक की शक्ति तक गणना करने में सक्षम है। एक पेटाफ्लॉप दस लाख बिलियन फ्लोटिंग प्वाइंट गणनाएं प्रति सेकेण्ड के बराबर होती है तथा यह सुपरकम्प्यूटर की गणना क्षमता को समझने की इकाई होती है। हालांकि “प्रत्यूष” की कुल गणना क्षमता में से 2.8 पेटाफ्लॉप्स को नोएडा स्थित National Centre for Medium Range Weather Forecast में स्थापित किया जायेगा। इण्डियन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मीट्रोलॉजी (IITM) द्वारा जारी जानकारी के अनुसार “प्रत्यूष” मौसम को समर्पित दुनिया की चौथा सबसे तेज सुपरकम्प्यूटर है तथा इसका स्थान जापान, अमेरिका और ब्रिटेन के सुपरकम्प्यूटरों के बाद है। इसके साथ ही इस सुपरकम्प्यूटर के साथ भारत का स्थान विश्व के 500 सबसे तेज सुपरकम्प्यूटरों की सूची (Top500 list) में 300 के स्तर से घट कर अब सर्वोच्च 30 में आ गया है।

Filed in: Year 2018, जनवरी 2018, फ़ोटो से जाने, भारत, सम-सामयिकी, समाचार, सामान्य ज्ञान, हमारा भारत Tags: , , , , , ,

You might like:

विराट कोहली बने ICC क्रिकेटर ऑफ़ द ईयर 2017 विराट कोहली बने ICC क्रिकेटर ऑफ़ द ईयर 2017
भारत ऑस्ट्रेलियाई समूह का 43वां सदस्य बना भारत ऑस्ट्रेलियाई समूह का 43वां सदस्य बना
ISRO का 100वां सैटेलाइट कार्टोसेट 2 लॉन्च हुआ ISRO का 100वां सैटेलाइट कार्टोसेट 2 लॉन्च हुआ
के सिवान ISRO के नए अध्यक्ष बने के सिवान ISRO के नए अध्यक्ष बने

Leave a Reply

You must be Logged in to post comment.

© 8782 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.