RBI की छठी द्वि-मासिक मौद्रिक नीति में रेपो दर घटकर 6.25% हुई

rbi rates feb 2019रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट में 25 बेसिस अंकों की कटौती की, 6.50 से घटकर हुआ 6.25, अन्य महत्वपूर्ण दरों में कोई बदलाव नहीं, आरबीआई गवर्नर ने 2019-20 में विकास दर 7.4 प्रतिशत रहने का जताया अनुमान। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने वित्त वर्ष 2018-19 का छठा द्विमासिक पॉलिसी स्टेटमेंट जारी किया है। ये मंगलवार से गुरुवार तक चली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के बाद जारी किया गया है। आरबीआई ने इस नई मौद्रिक नीति के तहत रेपो रेट में 25 बेसिस पॉइंट की कटौती की है। ऐसे में अब रेपो रेट 6.50 से घटकर 6.25 फीसदी हो गया है। इसका असर होम लोन और पर्सनल लोन पर पड़ सकता है। बैंक इन लोन की ब्याज दरों को कम कर सकते हैं। आरबीआई ने मार्च तिमाही के लिए खुदरा मुद्रास्फीति अनुमान घटाकर 2.8 प्रतिशत किया है। अगले वित्त वर्ष की पहली छमाही के लिए यह अनुमान 3.2 से 3.4 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही के लिए 3.9 प्रतिशत किया है। आरबीआई ने वित्त वर्ष 2019-20 में देश की जीडीपी वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत तक रहने का अनुमान जताया है। वित्त वर्ष 2018-19 के लिये यह अनुमान 7.2 प्रतिशत रखा गया है।
मुद्रास्फीति की दर:
खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर 2018 में 3.4% से घटकर दिसंबर में 2.2% हो गई, जो पिछले अठारह महीनों में सबसे कम आंकी गयी थी।
ईंधन और बिजली ग्रुप में मुद्रास्फीति अक्टूबर में 8.5% से घटकर दिसंबर में 4.5% हो गई।
खाद्य और ईंधन को छोड़कर सीपीआई मुद्रास्फीति दिसंबर में 5.6% से घटकर अक्टूबर में 6.2% हो गई।

Filed in: Year 2019, फरवरी 2019, व्यापार, सम-सामयिकी, सामान्य ज्ञान Tags: , ,

You might like:

जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म जम्‍मू-कश्‍मीर से धारा 370 खत्‍म
रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार रवीश कुमार को रैमॉन मैगसेसे 2019 पुरस्कार
चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई 2019 को – ISRO चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण 22 जुलाई 2019 को – ISRO
जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष जर्मनी की उरसुला वोन डेर लेयेन चुनी गई यूरोपीय आयोग की पहली महिला अध्यक्ष
© 2019 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.