नीति आयोग ने ‘‘साथ’’ कार्यक्रम शुरू किया

saath program by niti aayogनीति आयोग ने 10 जून को सहकारी संघवाद की कार्यसूची पर अमल के लिए ‘‘साथ’’ यानी ‘सस्टेनेबल एक्शन फॉर ट्रांसफार्मिंग ह्यूमन कैपिटल’ अर्थात् मानव पूंजी के रूपांतरण के लिए स्थायी कार्यक्रम नामक कार्यक्रम का शुभारंभ किया है। इस कार्यक्रम का लक्ष्य शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्रों का कायाकल्प करना है। यह कार्यक्रम विभिन्न राज्यों द्वारा नीति आयोग से अपेक्षित तकनीकी सहायता की आवश्यकता पूरी करेगा।

  • ‘साथ’’ कार्यक्रम – एक परिचय :
    ‘‘साथ’’ का लक्ष्य स्वास्थ्य प्रणालियों के लिए राज्यों के तीन भावी ‘रोल मॉडलों’ का चयन करना और उनका निर्माण करना है। नीति आयोग अंतिम लक्ष्यों को हासिल करने के लिए राज्यों की मशीनरी के साथ सहयोग करते हुए हस्तक्षेप का सुदृढ़ रोडमैप तैयार करेगा, कार्यक्रम कार्यान्वयन का ढांचा विकसित करेगा और निगरानी एवं अन्वेषण व्यवस्था कायम करेगा। इसके अंतर्गत संस्थागत उपायों के जरिए राज्यों की विभिन्न प्रकार की सहायता की जाएगी।
  • नीति आयोग ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आमंत्रित किया था, जिनमें से 14 राज्यों ने अपने प्रेजेंटेशन किए, जिनमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, गोआ, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, ओडिसा, पंजाब, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश शामिल हैं।
  • इन 14 राज्यों में से पांच का चयन किया गया है। इनमें से 3 राज्यों का चयन अंतिम रूप से किया जाना है, जिनमें यह कार्यक्रम लागू किया जाएगा।
  • राज्यों का अंतिम चयन विभिन्न स्वास्थ्य मानदंडों जैसे प्रसूति मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर, मलेरिया के मामले आदि के आधार पर किया जाएगा।
Filed in: Year 2017, जून 2017, प्रमुख योजनाएँ, भारत, सम-सामयिकी, सामान्य ज्ञान, सामान्य ज्ञान लेख Tags: , , , ,

You might like:

इंडो-रशिया राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड, अमेठी राष्ट्र को समर्पित इंडो-रशिया राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड, अमेठी राष्ट्र को समर्पित
रोजर फेडरर ने 100वां खिताब जीता रोजर फेडरर ने 100वां खिताब जीता
प्रयागराज कुंभ मेला 2019 गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल प्रयागराज कुंभ मेला 2019 गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल
ऑस्कर पुरस्कार 2019 के विजेता ऑस्कर पुरस्कार 2019 के विजेता
© 7766 सामान्य ज्ञान. All rights reserved. XHTML / CSS Valid.
Proudly designed by eShala.org.